Ashok Arora


Commented 4 years ago
"शरद जी, आप सही कह रहे हैं कि केजरीवाल अब किसी तरह की हड़बड़ी में नहीं है। इसका कारण है कि अब उनको जनता ने 5 साल के लिए चुना है। पहले उनके पास बहुमत नहीं था, इसलिए उनका इरादा कम समय में ज्यादा से ज्यादा करना था जिससे वो जनता का मन जीत सके और वो उसमे कामयाब हुए। वो एक बहुत ही चालाक प्रशासक है। वो बदले नहीं है लेकिन अब उन्होंने नेतागीरी सीख ली है। उनके इरादे आज भी वही है, जो पहले थे। मिशन पी एम। वो अपनी रणनीति समय के अनुसार बदलते रहते है इसलिए उनको कई बार पलटीबाज भी कहते है। मैं अरविन्द को बहुत अच्छी तरह से जानता हू। अपना सपना पूरा करने के लिए वो परायो को अपना बना लेते है और अपनों को पराया। इसीलिए उनके कई पुराने विश्वसनीय साथी आज उनके साथ नहीं है और कई नए अफ़सरवादी साथी अब उनके साथ है। अब पांच साल तक वो जनता को खुश रखने का प्रयास करेंगे जिससे उनकी प्रधानमंत्री बनने की महत्वाकांक्षा पूरी हो सके। अब उनको कोई जल्दबाजी नहीं है। सोनिया गांधी को राज चलाने के लिए सिंह साहब मिल गए थे, केजरीवाल को सिसोदिया जी मिल गए है। 70 में से आधे वादे भी पुरे कर लिए तो केजरीवाल की बल्ले बल्ले वर्ना मोदी की जनता में हाय हाय क्योंकि केजरीवाल ने जवाब सोचा हुआ है - "देखो जी, केंद्र ने सहयोग किया नहीं, वर्ना मैं तो सारे वादे पुरे कर देता। अब लोकसभा चुनाव में जनता हमें पूर्ण बहुमत दे, फिर केजरीवाल 15 साल दिल्ली के साथ साथ पुरे देश की भी सेवा करेगा"। - प्रोफ अशोक अरोड़ा"

Share This Page

Recent Updates

Recommendations